THN Network


NEW DELHI
: दिल्ली के रोहिणी स्थित एक सरकारी स्कूल परिसर में दो नाबालिग छात्रों के साथ सहपाठियों ने स्कूल परिसर में स्थित शौचालय और पार्क में सामूहिक कुकर्म किया। इस घटना के सोमवार को सामने आने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एक्शन मोड में हैं।

ताजा मामले में आज मंगलवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने संबंधित शिक्षकों और वाइस प्रिंसिपल को तत्काल निलंबित करने का आदेश दिया है, जिन्होंने एक बच्चे द्वारा दी गई घटना की सूचना पुलिस को नहीं दी थी।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर, शिक्षा मंत्री आतिशी ने भविष्य में ऐसी घटनाओं से बचने के लिए पॉक्सो (POCSO) के प्रावधानों पर सभी प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों का कठोर प्रशिक्षण सुनिश्चित करने के लिए शिक्षा निदेशालय को पत्र लिखा है। आतिशी ने छात्रों के समग्र विकास के लिए स्कूलों में सुरक्षित वातावरण देने को लेकर दिल्ली सरकार की अटूट प्रतिबद्धता का आश्वासन दिया है।

सरकार ने किया जांच कमेटी का गठन
गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी पूरे मामले की जांच कर रही है।

इससे पहले सोमवार देर रात इस बारे में दिल्ली सरकार ने बयान जारी कर कहा था कि स्कूल द्वारा आयोजित ग्रीष्मकालीन शिविर में घटित यह घटना अत्यंत दुखद व घृणित है। मामले में गठित जांच कमेटी इस विषय की गहनता से जांच कर रही है। इसके आधार पर संबंधितों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

12 वर्षीय छात्र ने प्रिंसिपल को दी जानकारी, फिर भी नहीं हुई कार्रवाई
12 वर्षीय छात्र ने बताया कि अप्रैल में उसकी कक्षा के चार लड़कों ने उसके साथ शौचालय में सामूहिक कुकर्म किया। उसके साथ आरोपितों ने मारपीट की व किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी।

पिछले दिनों 10 अगस्त को दो लड़के उससे कुकर्म करने की कोशिश करने लगे। जब छात्र चिल्लाया तो एक अध्यापक आए, जिसके बाद आरोपितों ने उसे छोड़ दिया। उसने बताया कि इस संबंध में दो शिक्षकों को भी बताया और उन्होंने यह बात घर पर बताने से मना किया।

22 अगस्त को पीड़ित छात्र ने यह बात अपनी मां को बताई। 23 अगस्त को छात्र की मां ने सारी बात स्कूल प्रशासन को बताई। स्कूल प्रशासन ने उनसे कहा कि वह यह बात किसी को भी न बताएं। शुक्रवार शाम को आरोपित ने पीड़ित छात्र को फिर से धमकी दी। इसके बाद शनिवार को पीड़ित छात्र की मां ने पुलिस से शिकायत की।