THN Network



NEW DELHI:
दीपों का उत्सव दीवाली खुशियों और समृद्धि का त्योहार माना जाता है और इस दिन लोग हर्षोल्लास के साथ अपने परिवार और प्रियजनों के साथ दीवाली का त्योहार मनाते हैं. इसके लिए लोग दीपों, मोमबत्तियों और लाईटों से अपने घरों की सजावट करते हैं. वहीं इस दिन लोगों की खुशियों में आग का ग्रहण न लगे और न ही किसी जान-माल का नुकसान हो इसलिए दिल्ली फायर सर्विस अपनी ड्यूटी पर तैनात रह कर आगजनी से जुड़ी किसी भी घटना को काबू करने के लिए अलर्ट मोड़ पर रहती है.

इन जगहों पर फायर की टीम रहेगी तैनात

इस बार भी दीवाली पर दिल्ली फायर ब्रिगेड की टीम अलर्ट मोड़ पर है. दिल्ली के सभी 66 फायर स्टेशनों समेत कुल 92 स्थानों पर आगजनी की घटना से निपटने के लिए ट्रेंड फायर फाईटर्स को फायर की गाड़ियों के साथ तैयार रहने के निर्देश दिए हैं. इनमें से जिन 26 स्थानों पर फायर की टीम की तैनाती की जानी है, उनमें 23 स्थानों पर फायर टेंडर्स की गाड़ियां फायर फाईटरों के साथ अलर्ट मोड़ पर रहेंगी. जबकि 3 स्थानों पर बाइक पर बैक-पैक वाले फायर-फाईटर तैनात रहेंगे. इन बाइक सवार फायर फाईटर्स की सहायता से दिल्ली के उन तंग इलाकों में पहुंचने में आसानी होगी, जहां आगजनी की घटना के बाद फायर टेंडर की गाड़ियों का पहुंचना सम्भव नहीं होता है. ये गाडियां मुख्य रूप से साउथ ईस्ट दिल्ली में अंबेडकर नगर पुलिस स्टेशन, हरियाणा बॉर्डर के पास कपासहेड़ा और सेंट्रल दिल्ली के पहाड़गंज पुलिस स्टेशन में स्टैंड बाय मोड़ पर रहेंगे. इसके अलावा, कनॉट प्लेस समेत कई फायर स्टेशनों पर जाईलो वैन की तैनाती की गई है.

ये हैं दिल्ली के सबसे हाई रिस्क वाले इलाके


दिल्ली के जिन स्थानों को हाई रिस्क वाला घोषित किया गया है, उनमें 12 टूटी चौक, तिलक नगर, लाजपत नगर सेंट्रल मार्केट, लालकुआं चौक लाहौरी गेट, नांगलोई पुलिस स्टेशन, साउथ एक्सटेंशन, सोनिया विहार, महरौली पुलिस स्टेशन, घिटोरनी मेट्रो स्टेशन, अलीपुर पुलिस स्टेशन, रानी बाग मार्केट, डीटीसी डिपो कतरन मार्केट मंगोलपुरी, गांधीनगर मार्केट, महिपालपुर चौक, संगम विहार, मुंडका मेट्रो स्टेशन, डेरा गांव छतरपुर तिबोली गार्डन, आजाद मार्केट चौक, जयपुर गोल्डन अस्पताल रोहिणी, पेपर मार्केट गाजीपुर, यमुना विहार और राधा स्वामी सत्संग भाटी माइन्स प्रमुख हैं.

पीक ऑवर में सुरक्षा तैनाती पर  जोर ज्यादा 

बीते साल दीवाली की रात दिल्ली में 201 जगहों पर आगजनी की घटनाएं हुई थी, वहीं इससे पहले साल 2021 में 152 जगहों पर आगजनी हुई थी. फायर डिपार्टमेंट के एक अधिकारी ने बताया कि दीवाली की रात 6 घंटों का समय आगजनी के लिए पीक ऑवर माना जाता है और इस दौरान ही आगजनी की सबसे ज्यादा घटनाएं होती हैं. जिन पर काबू पाने के लिए दिल्ली फायर सर्विस ने पूरी तैयारी कर रखी है और टीमों को अलर्ट रखा गया है.