THN Network 



GHAZIABAD: अवध आसाम एक्सप्रेस के एसी फर्स्ट क्लास कोच से गाजियाबाद जीआरपी ने 30 किग्रा गांजा के साथ दो तस्करों को गिरफ्तार किया है। दोनों ओडिशा के माओवादियों से साढ़े तीन हजार रुपये किग्रा की दर से गांजा खरीदकर दिल्ली और गाजियाबाद में 8-10 हजार रुपये किग्रा के हिसाब से बेचते हैं। हर सप्ताह जनरल कोच में दिल्ली से ओडिशा जाते हैं और वापसी में गांजा लेकर एसी फर्स्ट क्लास कोच से आते हैं।एसी फर्स्ट क्लास कोच में रेलवे पुलिस सामान्यत: चेकिंग नहीं करती। अलर्ट होने पर ही एसी कोच में यात्रियों के सामान की तलाशी ली जाती है। एसएचओ अनुज मलिक ने बताया कि गिरफ्तार आरोपित नालंदा (बिहार) में खुसरूपुर का रंजीत कुमार और नगर नौसा का राजेश है। दोनों दिल्ली के कापसहेड़ा में किराये के कमरे में एक साथ रहते हैं। रंजीत को गांजा तस्करी के आरोप में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पांच साल पहले गिरफ्तार किया था।

ओडिशा से गांजा लाकर करते सप्लाई

वह काम के लिए गांव से यहां आया और गांजा तस्करी करने वाले लोगों के संपर्क में आकर यह काम करने लगा था। दो साल पहले राजेश से मुलाकात हुई और दोनों ने ओडिशा से गांजा लाकर यहां सप्लाई करने का काम शुरू कर दिया। ओडिशा में माओवादी गांजा की खेती करते हैं और इनसे गांजा खरीदकर पांच-पांच किग्रा के पैकेट बनाते हैं और बैग में रख लेते हैं। बैग में भी दो कंपार्टमेंट बना रखे हैं। नीचे गांजा रखते हैं और ऊपर कपड़े भर लेते हैं। जल्दबाजी में चेकिंग की जाए तो गांजा का पता नहीं चलेगा।

मुखबिर की सूचना पर पकड़ा 

दोनों हर माह ओडिशा के तीन चक्कर लगाते थे। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने इन्हें सोमवार रात उस समय पकड़ लिया, जब दोनों एक ट्रेन से उतरे। इस बार इन्हें गाजियाबाद में ही सप्लाई देनी थी। हालांकि दोनों ने नाम की जानकारी होने से इन्कार किया। दोनों दिल्ली के ही दीपू के संपर्क में रहते हैं। दीपू ही दोनों को डिमांड बताता था। अब पुलिस दीपू को तलाश रही है।