THN Network





NEW DELHI: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने दिल्ली विधानसभा विशेष सत्र के दौरान गुरुवार को कहा, 'देश में हर कोई जानना चाहता है कि चीन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) चुप क्यों हैं? पीएम के मुंह से 'चीन' शब्द नहीं निकलता है. गलवान घाटी में हमला करके उन्होंने हमारे 20 जवान को शहीद कर दिया. दिल्ली से डेढ़ गुना इलाका चीन की फोर्स ने कब्जा कर लिया और प्रधानमंत्री चुप रहे. यह लोग जवाहरलाल नेहरू को गाली देते हैं, लेकिन उन्होंने चीन से कम से कम युद्ध तो किया था.'

सीएम ने आगे कहा, 'चीन से हमारा व्यापार 87 बिलियन डॉलर का था, लेकिन उसे बढ़ाकर इन्होंने 114 बिलियन डॉलर का कर दिया. हम चीन से इतना माल इंपोर्ट करते हैं कम से कम उसे इंपोर्ट करना ही बंद कर देते. मैं पीएम से कहना चाहता हूं की आंख दिखाने की हिम्मत तो जुटाओ हाथ में हाथ डालने कर घूमने से इश्क होता है कूटनीति नहीं होती है. केजरीवाल ने कहा अडानी का घोटाला हुआ.'

'अडानी मामले पर पीएम ने कुछ नहीं बोला'

इंडियन वर्क रिपोर्ट ने पूरी दुनिया में हलचल मचा दी. लाखों इन्वेस्टर्स का पैसा डूब गया. कम से कम एक ट्वीट करके यह कह देते कि मैं जांच कराऊंगा और दूसरों को नहीं छोडूंगा, लेकिन पीएम मोदी चुप रहे. इससे लोगों को लगने लगा है कि अडानी का सारा पैसा मोदी का है. इन्होंने नीरव मोदी मेहुल चौक से माल्या को भगा दिया. आपने मनीष के खिलाफ नोटिस कर दिया, लेकिन नीरव मोदी के खिलाफ भी नोटिस नहीं जारी की. देश जानना चाहता है कि प्रधानमंत्री मोदी आपकी इनसे क्या डील हुई है. आज सदन के माध्यम से प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि, बाकी चीजें तो हो जाएंगी, लेकिन आप मणिपुर को संभाल लीजिए.