THN Network



NEW DELHI:
सर्दियां शुरू होने के साथ ही दिल्ली में प्रदूषण (Delhi Air Pollution) बढ़ता जा रहा है.भारत में एक अमेरिकी राजदूत ने राजधानी के प्रदूषण की तुलना 1970-1980 के दशक के लॉस एंजिल्स की प्रदूषित हवा से की है. उन्होंने कहा कि कुछ ही दिनों में राजधानी की हवा इतनी खराब हो जाती है कि उनको लॉस एंजिल्स में उनके पले-बड़े होने की याद आ जाती है, जब बच्चों को खेलने के लिए घर से बाहर न जाने देने की चेतावनी दी जाती थी. ये बात भारत में अमेरिका के राजदूत  एरिक गार्सेटी ने कही. अमेरिकी राजदूत की टिप्पणियां ऐससे समय में आई हैं, जब दिल्ली गंभीर वायु प्रदूषण संकट से जूझ रही है. दिल्ली में हवा की  गुणवत्ता आज भी गंभीर स्थिति में बनी हुई है और शहर में लगातार तीसरे दिन धुंध छाई हुई है. अमेरिकी राजदूत गार्सेटी ने कहा दिल्ली में इस तरह के दिन देखकर उनको लॉस एंजिल्स में बड़े होने की यादें ताजा करा देती हैं, जहां की हवा अमेरिका में सबसे ज्यादा प्रदूषित हुआ करती थी. जिस तरह से आज उनकी बेटी को उसके टीचर ने चेतावनी दी,  ठीक वैसे ही उस समय उनके शिक्षक भी उनको खेलने के लिए बाहर नहीं जाने की चेतावनी देते थे.उन्होंने बताया कि आज जब वह अपनी बेटी को छोडने स्कूल गए तो उसके टीचर ने प्रदूषण की वजह से बाहर न जाने की चेतावनी दी, जैसे कि उस जमाने में उनके टीचर्स देते थे. 

पराली जलाने से दिल्ली में बढ़ा प्रदूषण

बता दें कि दिल्ली के आसपास के राज्यों में जैसे-जैसे पराली जलाई जा रही है और हवा खराब हो रही है उसे देखकर वैज्ञानिकों ने अगले दो हफ्तों में दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषण के स्तर में तेजी की आशंका जताई है. कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स पहले ही 400 से ज्यादा हो चुका है मेडिकल प्रोफेशनल्स को डर है कि प्रदूषण का स्तर बढ़ने से बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों में अस्थमा और फेफड़ों की परेशानियां बढ़ जाएंगी.

दिल्ली के कई इलाकों में AQI 400 के पार

दिल्ली में हवा की क्वालिटी लगातार खराब होती जा रही है. आज सुबह 10 बजे तक राजधानी में हवा की गुणवतता 351 तक पहुंच गया था. बुधवार को अधिकतम वायु गुणवत्ता सूचकांक 364 और शुक्रवार को न्यूनतम सूचकांक 261 था. पंजाबी बाग, बवाना, मुंडका और आनंद विहार समेत दिल्ली के कई इलाकों में हवा की क्वालिटी गंभीर दर्ज की गई और AQI 400 से ज्यादा रहा.दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को 400 से ऊपर AQI वाले क्षेत्रों में निर्माण कार्य पर पांच दिनों तक प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया था.