THN Network (Delhi / NCR Desk): 

दिल्ली पुलिस ने 95 सेलिब्रिटीज के नाम पर फ्रॉड करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है. शहादरा जिला पुलिस ने इस गैंग का पर्दाफाश कर 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने बताया कि इस गैंग ने बड़ी-बड़ी हस्तियों के नाम पर लाखों रुपये की ठगी को अंजाम दिया. इतना ही नहीं इस गिरोह ने चाइनीज लोन ऐप के नाम पर ठगी करने वालों को भी अपनी ठगी का शिकार बना लिया. पहले आपको बताते हैं कि कौन-कौन सी बड़ी हस्तियां हैं जिनके नाम पर इन शातिर गैंग ने ठगी को अंजाम दिया. इसमें मुख्य नाम अभिषेक बच्चन, सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, ऋतिक रोशन, आमिर खान, विवेक ओबेरॉय, हिमेश रेशमिया, करण जौहर, आयुष्मान खुराना, महेश भूपति, फरदीन खान, कपिल शर्मा, वसीम अकरम, ऐश्वर्या राय, दीपिका पादुकोण, सुष्मिता सेन, शिल्पा शेट्टी, मंदिरा बेदी, आलिया भट्ट, सोनम कपूर, काजोल और तमन्ना भाटिया है.

कैसे गैंग बना 

खास बात ये है कि इस गैंग के सदस्य ठगी करने से पहले एक दूसरे को नहीं जानते थे. पुलिस के मुताबिक इन सभी ठगों की मुलाकात टेलीग्राम ग्रुप पर हुई. इसके बाद इन ठगों ने अपना एक अलग ग्रुप बनाया और ठगी की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया. 

पुलिस ने जब इस गैंग का पर्दाफाश किया और अभिषेक बच्चन का फर्जी पैन कार्ड देखा तो पुलिस भी हैरान रह गई. पुलिस ने बताया कि अभिषेक बच्चन के पैन कार्ड में सिर्फ उनकी फोटो के अलावा इसमें पूरी जानकारी यानी पैन नंबर, डेट ऑफ बर्थ सब कुछ सही था. इसी तरह इस गैंग ने 95 सेलिब्रिटी और इनकी जानकारी का इस्तेमाल कर ठगी की. 

क्या शिकायत मिली थी? 

ईस्टर्न रेंज की ज्वाइंट कमिश्नर छाया शर्मा ने बताया कि उन्हें एक वन कार्ड नाम की एक क्रेडिट कार्ड कंपनी ने शिकायत दी थी कि उनकी कंपनी के फर्जी क्रेडिट कार्ड बनाकर उन कार्ड से पैसे निकाले जा रहे हैं. इसके आधार पर शहादरा जिला पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की. जांच में सामने आया कि फर्जी फोन नंबर का इस्तेमाल कर इस ठगी को अंजाम दिया जा रहा है. पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाते हुए 5 शातिर ठगों को गिरफ्तार किया. 

ठगों ने क्या कहा? 

पूछताछ में ठगों ने खुलासा किया कि वो बड़े-बड़े सेलिब्रिटी के नाम पर पहले फर्जी पैन कार्ड और आधार कार्ड बनाते थे. पैन कार्ड और आधार कार्ड में फोटो किसी और की होती थी, लेकिन उसमें दी गई जानकारी सब सही होती थी. उसमें सेलिब्रिटी का नाम, जन्म दिन, उसका आधार और पैन कार्ड नंबर असली होता था. 

पुलिस ने क्या कहा? 

डीसीपी शहादरा रोहित मीणा ने बताया कि बड़े लोगों का सिबिल स्कोर अच्छा होता है. आज कल क्रेडिट कार्ड बनाने वाली कंपनियां KYC वेरिफिकेशन ऑनलाइन करती हैं. इस कारण कार्ड बनाने वाली कंपनियां इन्हें नहीं पकड़ पाई. 

ठगने वालों को ही ठगा

पुलिस ने बताया कि ये गैंग इतना शातिर है कि इस गिरोह ने चाइनीज लोन ऐप के नाम पर ठगी करने वाले लोगों के साथ भी ठगी की वारदात को अंजाम दे डाला, लेकिन उन लोन ऐप के जरिए इनको ज्यादा पैसे नहीं मिल रहे थे. लिहाजा उन्होंने क्रेडिट कार्ड कंपनियों को ठगना शुरू किया.

पुलिस के मुताबिक, अब तक 90 लाख रुपये की ठगी के बारे में जानकारी मिल चुकी है. अभी पुलिस इस गैंग से पूछताछ कर रही है. जांच में पता चला कि अब इनके गिरोह में कुछ महिलाएं भी शामिल होने वाली थीं क्योंकि महिला हस्तियों के नाम पर ठगी करने वाले थे. सब कुछ यानी कि फर्जी पैन कार्ड और आधार कार्ड तैयार किए जा चुके थे, लेकिन इससे पहले ये लोग पुलिस के हत्थे चढ़ गए.