THN Network 



NEW DELHI: यूपी और बिहार के कई जिलों में किलर हीटवेव का कहर जारी है. हीट स्ट्रोक से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

यूपी में गर्मी से हाहाकार मचा हुआ है लोग अस्पतालों में भर्ती हो रहे हैं. अकेले बलिया में 69 लोगों की मौत हो गई है. हालात का जायजा लेने पहुंचे यूपी के परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने गैर जिम्मेदाराना बयान दिया है कि गर्मियों में मौतों का आंकड़ा हर साल बढ़ता है.वहीं यूपी के वाराणसी में 7 और देवरिया में 53 की मौत गर्मी की वजह से हो गई है. इन मौतों का आधिकारिक रूप से सरकार पुष्टि नहीं कर रही है कि गर्मी की वजह से मौत हो रही है. ये अस्पताल में जो मौत हुई उसका आकड़ा है.बिहार में भी भीषण गर्मी पड़ रही है. यहां चिलचिलाती गर्मी से अबतक करीब 50 से ज्यादा लोगों की मौत की खबर है. लेकिन जिलों के डीएम, सिविल सर्जन, स्वास्थ्य विभाग की ओर से पुष्टि नहीं की जा रही है. न औपचारिक तौर पर आकड़ा जारी किया जा रहा है.

मौत की वजह गर्मी बताई जा रही है. गर्मी की वजह से हार्ट और बीपी, अस्थमा, Dehydration, उल्टी, पेट खराब होना वजह बताया जा रहा है.

बिहार के नवादा में हीटेवेव की चपेट में आने से SI की मौत हो गई. सिर्फ पुलिसकर्मी नहीं बल्कि लू की चपेट में आकर चार लोगों की मौत हो गई है.

उधर ओडिशा में भीषण गर्मी और उमस भरे मौसम के बीच राज्य सरकार ने लू से पहली मौत की पुष्टि की है. मृतक के परिवार के लिए 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि की मंजूरी दी है.

पीटीआई के मुताबिक, ओडिशा में विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) कार्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मृतक बालासोर जिले का अधेड़ उम्र का एक व्यक्ति था. अब तक लू की वजह से कथित तौर पर 20 लोगों की मौत की सूचना मिली है.

बीएसपी नेता मायावती ने ट्वीट कर रहा, "यूपी में पिछले कई दिनों से जारी भीषण गर्मी की आफत में राजधानी लखनऊ सहित पूरे प्रदेश में बिजली की ज़बरदस्त कमी ने लोगों का जीवन त्रस्त कर रखा है, जिससे बलिया व अन्य ज़िलों से मौत की खबरें अति-दुःखद. सरकार बिजली व्यवस्था तुरंत सुधारे और अस्पतालों आदि में बिजली कटौती न करे."