THN Network 



दिल्ली में अधिकारियों से जुड़े केंद्र सरकार के अध्यादेश के खिलाफ समर्थन जुटा रही आम आदमी पार्टी (AAP) को कांग्रेस (Congress) का साथ मिल सकता है. सूत्रों का कहना है कि संसद में ये अध्यादेश का मुद्दा आने पर कांग्रेस आप और अन्य पार्टियों के साथ खड़ी हो सकती है. हालांकि, कांग्रेस के आप के साथ गठबंधन या अन्य मुद्दों पर साथ देने की संभावना नहीं है क्योंकि कांग्रेस को लगता है कि आप नेता कई मौकों पर पार्टी पर निशाना साधते रहे हैं.केंद्र सरकार ने बीते महीने दानिक्स कैडर के ग्रुप-ए अधिकारियों के तबादले और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही के लिए राष्ट्रीय राजधानी लोक सेवा प्राधिकरण गठित करने के उद्देश्य से एक अध्यादेश जारी किया था. दिल्ली की आप सरकार इसका विरोध कर रही है और इसे सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ बताया है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने इस अध्यादेश के आने से पहले दिल्ली में पुलिस, कानून-व्यवस्था और भूमि को छोड़कर अन्य सभी सेवाओं का नियंत्रण दिल्ली सरकार को सौंप दिया था. 

अरविंद केजरीवाल मांग रहे विपक्षी दलों का समर्थन

आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस अध्यादेश के खिलाफ समर्थन जुटाने के लिए विपक्षी दलों के कई नेताओं से मुलाकात की है. आप चाहती है कि संसद में इससे संबंधित विधेयक पारित न हो पाए. इसके लिए वो सभी विपक्षी दलों से संसद में इसका विरोध करने का आग्रह कर रही है. बिहार के सीएम नीतीश कुमार, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, एनसीपी चीफ शरद पवार, तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन समेत कई नेता आप का समर्थन करने की बात कह चुके हैं. 23 जून की बैठक में भी उठ सकता है मुद्दा

आगामी 23 जून को बिहार के पटना में सीएम नीतीश कुमार के आह्वान पर विपक्षी दलों की बड़ी बैठक भी होने वाली है जिसमें कई दिग्गज शामिल होने वाले हैं. अरविंद केजरीवाल भी इस बैठक का हिस्सा होंगे. सीएम केजरीवाल ने इस बैठक को लेकर कहा है कि इस मीटिंग में केंद्र के अध्यादेश पर चर्चा करने को लेकर उन्होंने विपक्षी दलों से अनुरोध किया है. उन्होंने कहा कि आज जो दिल्ली में हो रहा है, कल वह दूसरे राज्यों में भी हो सकता है.