THN Network 



NEW DELHI: भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के निर्वतमान अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को महिला पहलवानों के लगाए गए यौन उत्पीड़न के मामले में कोर्ट ने शुक्रवार (7 जुलाई) को समन भेजा. इसमें अदालत ने बृजभूषण सिंह से 18 जुलाई को पेश होने को कहा है. इस बीच हाल ही में राउज एवेन्यू कोर्ट में पुलिस की दायर चार्जशीट से एक बड़ा खुलासा हुआ.चार्जशीट के मुताबिक, शिकायतकर्ता ने छह जगहों का जिक्र कर बताया कि उसके साथ इन स्थानों पर बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह ने छेड़छाड़ की. अब तक की जांच के आधार पर सिंह पर यौन उत्पीड़न, छेड़छाड़ और पीछा करने जैसे अपराधों के लिए मुकदमा चलाया जा सकता है और सजा दी जा सकती है.

इस चार्जशीट में कुल 21 गवाहों के बयान की बात है. इसमें से छह ने सीआरपीसी 164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया है. 

चार्जशीट में क्या है?

पुलिस ने कई इवेंट्स के फोटोग्राफ और पैन ड्राइव में कुछ वीडियो चार्जशीट में शामिल किए हैं. इसमें पहलवानों की मुहैया कराए गए कई फोटोग्राफ हैं. इसमें से एक फोटो पहलवान विनेश फोगाट का बृजभूषण सिंह के साथ सिरीफोर्ट स्टेडियम का है. 

बृजभूषण शरण सिंह ने क्या कहा?

पूरे मामले में चार्जशीट को लेकर बृजभूषण सिंह से टाइम्स नाऊ के रिपोर्टर ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मेरे पास बोलने के लिए और आपको मसाला देने के लिए कुछ नहीं है. इस दौरान जब उनसे इस्तीफे को लेकर पूछा गया तो उन्होंने माइक हटा दिया. 

कांग्रेस ने क्या कहा?

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘कानून और नैतिकता कहती है कि महिलाओं के साथ अत्याचार करने वाले आरोपी को उसके पद से हटाया जाए, निष्पक्ष जांच हो, गिरफ्तारी हो और अदालत में उसे सजा दिलवाई जाए, लेकिन बीजेपी सरकार में देश का मान बढ़ाने वाली महिला खिलाड़ियों के साथ अत्याचार करने वाले आरोपी को बचाया क्यों जाता है, मामले को दबाया क्यों जाता है, जांच में मामले को रफा-दफा क्यों किया जाता है?’’

उन्होंने पूछा, ‘‘पूरी सरकार इस मामले पर मौन क्यों है? आरोपी अभी तक बीजेपी में क्यों है और कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई?’’

कांग्रेस पार्टी की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, ‘‘दिल्ली पुलिस ने अपने आरोपपत्र में बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह पर यौन उत्पीड़न, पीछा करने और डराने-धमकाने के आरोप लगाए हैं. पुलिस ने अदालत से बृजभूषण सिंह के खिलाफ मुकदमा चलाने और दंडित करने की कार्रवाई करने की बात की है.’’

उनका कहना था कि विडंबना है कि महिला पहलवानों ने जनवरी 2023 में गठित समिति के सामने भी बृजभूषण सिंह के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे, लेकिन कमेटी ने आरोपों को अनदेखा कर दिया. यही नहीं, समिति ने खेल मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट में भी बृजभूषण के खिलाफ लगे आरोपों पर चुप्पी साध ली.