THN Network



दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ISIS के तीन संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार (ISIS Terrorist Arrest) किया है. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के स्पेशल सीपी एचजीएस धालीवाल ने बताया कि, पिछले महीने एनआईए ने तीन ऐसे लोगों पर अवार्ड घोषित किए थे, जिनका अलग-अलग ब्लास्ट में रोल था. उनमें से एक आरोपी था मोहम्मद शाहनवाज. उसको और उसके दो साथियों मोहम्मद रिजवान अशरफ व मोहम्मद अशरफ को आज सुबह अरेस्ट किया गया. 

एचजीएस धालीवाल ने बताया कि, इनका मैक्सिमम कैजुअल्टी के लिए ब्लास्ट करना उद्देश्य था. इन्हें बड़े लोगों को टारगेट करना था. फंडिग ट्रेल हमारे पास है. आतंक के लिए यह जो भी क्राइम करते हैं उसे 'माले गनीमत' कहते हैं. 18 जुलाई को यह पुणे से कार चोरी करके भाग रहा था उसमें इमरान और यूसुफ को पुणे पुलिस ने पकड़ा. उन पर पांच लाख का इनाम था और उनका चितौड़गढ़ ब्लास्ट में हाथ था. यह वहां से भाग गया था. इन्हें नेट के जरिए बाहर से सब कुछ मिल रहा था. यह ISIS का पेन इंडिया मॉड्यूल है.

दिल्ली और पुणे ISIS मॉड्यूल का ऑपरेटिव था शाहनवाज
गिरफ्तार संदिग्ध शाहनवाज दिल्ली और पुणे में ISIS मॉड्यूल का ऑपरेटिव था. वह पेशे से इंजीनियर है. वहीं बाकी दोनों भी ISIS के संदिग्ध आतंकी हैं और काफी पढ़े लिखे हैं. शाहनवाज की तलाश NIA काफी दिनों से कर रही थी. आतंकी शाहनवाज पर NIA ने तीन लाख रुपये का इनाम घोषित किया था. यह पुणे ISIS केस में वांटेड था. 

माइनिंग इंजीनियर है शाहनवाज 
झारखंड के हजारीबाग का रहने वाला शाहनवाज पेशे से इंजीनियर है. वह पुणे पुलिस की कस्टडी से फरार होने के बाद दिल्ली में छिपा हुआ था. धालीवाल ने बताया कि, शाहनवाज विश्वेसरैया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से पढ़ा है. वह माइनिंग इंजीनियर है. माइनिंग की पढ़ाई के चलते उसे ब्लास्ट का नॉलेज था. उसने बम बनाने के कई प्रयोग किए. उसे इंटरनेट का बहुत नॉलेज है. उसकी पत्नी हिंदू थी जिसका नाम बसंती पटेल था. उसने इस्लाम अपना लिया था और फिर मरियम नाम रख लिया था. शहनवाज ने पत्नी का धर्म बदलवाकर रेडिक्लाइज किया था. वह भी शहनवाज का साथ दे रही थी. वह अभी फरार है.  पुलिस उसकी तलाश कर रही है.उसकी बहन भी फरार है. शाहनवाज कई स्पॉट पर कैंप बनाकर नार्थ इंडिया में आतंकी ट्रेनिंग कैंप खोलना चाहता था. 

धालीवाल ने बताया कि, मोहम्मद अरशद वारसी भी झारखंड का रहने वाला है. वह अलीगढ़ यूनिवर्सिटी से पढ़ा है. उसने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक किया है और अभी जामिया से पीएचडी कर रहा है. ISIS के पुणे माड्यूल के फरार आतंकी मोहम्मद रिजवान अशरफ मौलाना है. वह यूपी के आजमगढ़ का रहने वाला है. उसने गाजियाबाद से कंप्यूटर साइंस में बीटेक किया है और अभी प्रयागराज में रह रहा था. उसकी पत्नी भी फरार चल रही है.

मौलाना भी है मोहम्मद रिजवान अशरफ
NIA को तीनों आतंकियों के दिल्ली में छिपे होने के इनपुट मिले थे. इसके बाद रविवार को जांच एजेंसी की टीम पुलिस के साथ मिलकर कई जगहों पर छापेमारी करने पहुंची थी लेकिन उसके हाथ कोई भी सुराग नहीं लग सका था. स्पेशल सीपी धालीवाल ने बताया कि, मोहम्मद रिजवान अशरफ मौलाना भी है. उसने आतंकी घटना को अंजाम देने के लिए बाकी दो लोगों को बाइक भी दिलाई थी. शाहनवाज को जैतपुर, अरशद को मुरादाबाद और रिजवान अशरफ को लखनऊ से गिरफ्तार किया गया है. आज कोर्ट में सभी को पेश करके सात दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड ली गई है.

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी एचजीएस धालीवाल ने बताया कि, शाहनवाज के ठिकाने से पिस्टल, आईईडी बनाने का सामान, विस्फोटक बनाने का सामान, अलग-अलग तरफ के केमिकल और जेहादी व बम बनाने का लिटरेचर, जो पाकिस्तान से आया था, बरामद किया गया है. उन्होंने बताया कि आरोपियों ने पश्चिमी भारत, दक्षिण भारत और उत्तरी भारत में रेकी की और काफी दिन बिताए. पश्चिमी घाटों में उन्होंने रेकी थी, जंगलों में ये कई हफ्ते रहे, जहां इन्होंने बम विस्फोट का ट्रायल किया.

आतंकियों ने कई जगह ट्रेनिंग कैंप बना रखे थे

धालीवाल ने बताया कि, इन्होंने कई जगह ट्रेनिंग कैंप बना रखे थे. ये प्रयोग के बाद अपने हैंडलर को रिपोर्ट करते थे. इन्हें पूरा सामान स्थानीय जगह से लेने के लिए कहा गया था जिससे देश के बाहर बैठे लोगों का नाम न आने पाए. इनके कुछ और लोग संपर्क में थे जिनसे भी पूछताछ चल रही है. उन्होंने बताया कि, इनको अलग-अलग टास्क दिए गए थे.